Friday, October 14, 2011

कुछ खुला

कुछ खुला ये दिल रखो,
जब तक कोई यहाँ रहने न आ जाए,
फिर भले ही ताला लगा रखो,
जब कोई यहाँ बस जाए,

.

No comments:

Post a Comment