Sunday, October 16, 2011

उसकी वो

उसकी वो दिल-ए-आह की टीस, आज भी चुभती है,
दिल पत्थर कर लिया है, पर पत्थर में भी घुसती है,


.

No comments:

Post a Comment