Sunday, October 9, 2011

न कुरेदो

 न कुरेदो मेरे ज़ख्मों को,
नासूर वो पहले ही बन चुके,
दूर रखो अपने ज़ज्बातों को,
बहुत अपने गम सुना चुके,

.



No comments:

Post a Comment