Sunday, October 9, 2011

हर सिफत

हर सिफत,
यूँ तनहा-सी होती है,
वो अभी भी,
यूँ तल्खा-सी होती है,


.

No comments:

Post a Comment