Wednesday, October 19, 2011

यूँ ही वक्त

यूँ ही वक्त-ए-बेवक्त, उसकी याद आ जाती है,
वक्त थम जाता है, आँख कहीं ठहर जाती है,


.

No comments:

Post a Comment