Wednesday, October 19, 2011

गुज़रती आहों

गुज़रती आहों की गर्माहट से, दिल अपना गर्म कर लेता हूँ,
कब का ठण्डा हो चुका होता, दिल अपना नरम कर लेता हूँ,


.

No comments:

Post a Comment