Sunday, October 9, 2011

वो अपनी

वो अपनी गली से जाते हैं,
पीछे-पीछे से हम भी आते हैं,
चुपके से उनका घर देख आते हैं,
रोज़ अब उनके दीदार हो जाते हैं,


.

No comments:

Post a Comment