Saturday, October 15, 2011

कदम भारी

कदम भारी, अपनी ही लाश लिए घूमता हूँ,
बेवफाई उनकी देखी, न आश लिए घूमता हूँ,


.

No comments:

Post a Comment