Saturday, October 15, 2011

वो पहली

वो पहली मुलाक़ात का अहसास,
आज तक जहन में सहेज रखा है,
जब भी तेरी बेरुखियायी होती है,
उन्ही लम्हों को याद कर रखा है,


.

No comments:

Post a Comment