Friday, October 14, 2011

वो निगाहें

वो निगाहें अपनी न छुपाओ,
हमको देखो, हमसे न शरमाओ,
हमसे क्यूँ ये शर्म-सी है,
निगाह से निगाह मिलाओ,


.

No comments:

Post a Comment