Sunday, October 9, 2011

हालात-ए-ज़हफर

हालात-ए-ज़हफर, अब न बता सकूँगा,
कितने हैं जख्म, अब न बता सकूँगा,
रहने दे मुझे मेरे, हालात-ए-अंजुमन में,
सहन सब कर लूँगा, तन्हाई-ए-सुखन में,


.

No comments:

Post a Comment