Wednesday, October 19, 2011

वो आखों

वो आखों में बसी उनकी यादें, रोज़ ताज़ा कर लेता हूँ,
इस तन्हा-सी जिन्दगी में, रोज़ उन्हें याद कर लेता हूँ,

.

No comments:

Post a Comment