Monday, October 24, 2011

कहने को

कहने को तो जिन्दगी में है, बहुत कुछ,
जब बात जुबां न आए तो क्या कहें कुछ,


.

No comments:

Post a Comment