Tuesday, October 4, 2011

जईफ्ता-जईफ्ता

जईफ्ता-जईफ्ता अफ़साने मोहब्बत के, बनते ही जाते हैं,
कितने दीवाने, इस सर-ए-आह में गुल खिलते ही जाते हैं,

.



No comments:

Post a Comment