Sunday, October 9, 2011

ज़हन-ओ-सिफ्कत

ज़हन-ओ-सिफ्कत, रूठी है किस्मत,
किसे किस्सा अब बनने दें,
जिन्दगी अपनी ही न सम्भाली जाती,
किसे हिस्सा अब बनने दें,

.

No comments:

Post a Comment