Saturday, October 15, 2011

हालात -ए-नाज़िश

हालात -ए-नाज़िश,
उनके दिल-ए-हालात न समझ पाया,
जिन्दगी में सबसे ज्यादा जिसको चाहा,
उसके दिल-ए-हालात न समझ पाया,

.

No comments:

Post a Comment