Tuesday, October 11, 2011

तन्हाईओं में

तन्हाईओं में उसे,
पुकारता चला,
दिल ही दिल में,
यादारता चला,

ईधर से उधर,
टहलता चला,
मन ही मन,
मचलता चला,

तन्हाईओं में .......

टकराया न किसी से,
अपने आप को,
जिन्दगी में,
संभालता चला,

खोया है तुमको जबसे ,
अपने आप को,
जिन्दगी में,
रम्भालता  चला,

तन्हाईओं में .......

.

No comments:

Post a Comment