Wednesday, October 19, 2011

सहज-ए-हकीकत

सहज-ए-हकीकत में, वक्त गुजरता कैसे है,
एक-एक लम्हा, रुका-सा सरकता जैसे है,


.

No comments:

Post a Comment