Tuesday, October 4, 2011

हकीकत-ए-ज़फ्लाहत

हकीकत-ए-ज़फ्लाहत से कुछ तन्हाई में रहने दे,
यूँ पंखा भी न चला, पसीने में नहाई अब रहने दे,

.



No comments:

Post a Comment