Wednesday, October 19, 2011

दिन-ओ-दिन

दिन-ओ-दिन उनको मैं याद करता चला,
उनकी ही याद में दिन-रात काटता चला,
पल-ए-वक्त उनकी ही याद से भरता चला,
जिन्दगी-ए-वक्त में कहीं मिल जाएँ भला,

.

No comments:

Post a Comment