Sunday, October 9, 2011

वो तनहायीओं

वो तनहायीओं में उनको याद करना,
याद करते-करते उनमें ही खो जाना,
कितना इत्तफाकन होता है, ये, जाना,
ग़मों में डूबकर तुझे याद फिर करना,


.

No comments:

Post a Comment