Sunday, October 9, 2011

इन्तहातन वो

इन्तहातन वो इश्क की इन्तहा न समझे,
रोज़ आ जाते हैं, हुश्न लेकर इश्क न समझे,


.

No comments:

Post a Comment