Saturday, October 15, 2011

अब हमें

अब हमें तन्हा-सा छोड़कर,
कब तक रहोगे यूँ ही,
याद तो हम आयेंगे तन्हाई में,
कब तक रहोगे यूँ ही,


.

No comments:

Post a Comment