Tuesday, October 18, 2011

राजा-ए-दिल

राजा-ए-दिल सभी होते हैं,
दीवानगी से पल्ले सभी ने झाडे होते हैं,
न जाने दिल की किस गहराई में,
किस-किस के दिल गाड़े होते हैं,


.

No comments:

Post a Comment