Tuesday, October 18, 2011

इंतज़ार-ए-हातिब

इंतज़ार-ए-हातिब से, जिन्दगी बेकसार गुजरी,
जिधर भी नज़र गुजरी, उसका इंतज़ार गुजरी,


.

No comments:

Post a Comment