Tuesday, October 4, 2011

कितनों दिन

कितनों दिन के बाद,
कोई इजरत-ए-इश्क में,
मिटने आया है,
देख तो लेने दे,
किसको इश्क ने सताया है,

.



No comments:

Post a Comment