Tuesday, October 4, 2011

आहें भी न

आहें भी न भरें,
आँशु भी रोक लें,
चेहरा भी ज़र्द न हो,
तो कौन कहेगा
की हमने,
किसी बेवफा का,
दर्द झेला है,

सब तो,
कुछ और,
समझेंगे,
सोचेंगे,
कोई,
बेगैरत,
झमेला है,

.


No comments:

Post a Comment