Tuesday, October 4, 2011

है फ़ना

है फ़ना-ए-जो-मोहब्बत महरूम से,
टूटती आहों से सहारा दे-दे,
उससे मोहब्बत कर ले,
उसको किनारा दे-दे,


.

No comments:

Post a Comment