Tuesday, October 4, 2011

जहान-ए-जबरूयिअत

जहान-ए-जबरूयिअत, खुनस्ती से इश्क हुआ क्यूँ कर,
अक्र-या-देय, हुन्फ्फर-ए-म्यकान, फिर छोड़ा क्यूँ कर,

.

No comments:

Post a Comment