Tuesday, October 4, 2011

हैं तिबख्दत

हैं तिबख्दत-ए-मसकूयित में, सहमे-सहमे से जनाब,
फिर इश्क क्यूँ किया, जब न गम न झेल सके जनाब,

.

No comments:

Post a Comment