Tuesday, October 4, 2011

कितना आकिद

कितना आकिद-दार हुश्न है,
नज़र न लगे इसे,
क्यूँ यूँ तन्हा घूमता है,
इश्क न लगे इसे,


.

No comments:

Post a Comment