Tuesday, October 4, 2011

ज़र-ओ-ताबीर

ज़र-ओ-ताबीर-ओ-तुरबत,
आकियाना बना लो,
न छोड़ो अब जहाँ,
आशियाना बना लो,


.

No comments:

Post a Comment