Tuesday, October 4, 2011

गिरे गिर

गिरे गिर-ए-बान-ए-इकरत से,
न देख इस फितरत से,
तेरे जहन में क्या है,
बता दे अब फुरसत से,

.



No comments:

Post a Comment