Tuesday, October 4, 2011

अक से

अक से,
अकीयत से, 
न नुसरत से,
नसीहत से,

सबे खताए,
हो गयी है,
तो,
जुस्तुजू कैसे करें,

अब-ए-दयाये,
तो होने दे,
फिर,
मुस्तफ़नू करें,


.

No comments:

Post a Comment