Saturday, October 1, 2011

कशिश-ए-हकीकत

कशिश-ए-हकीकत,
कह दूं तो जीना मुश्किल हो जाए,
कशिश जो लगे किसी की,
उसका हो के रह जाए,


.

No comments:

Post a Comment