Thursday, October 6, 2011

ऐसी तन्हाई

ऐसी तन्हाई,
वक्त कितना धीरे-धीरे,
खिसकता है,

गम की भरपाई,
गम के बोझ से आगे न,
सरकता है,


.

No comments:

Post a Comment