Tuesday, October 4, 2011

यूँ ही न

यूँ ही न बैठो सियाफने में,
उठो कुछ गौर करो,
कितना हुश्न, यूँ ही बेकरार है,
चलो और दिल्लगी करो,


.

No comments:

Post a Comment