Tuesday, October 4, 2011

यूँ ही जिखनख़त

यूँ ही जिखनख़त की आशिक,
पूछती है सरे बाज़ार,
क्या हुश्न चला गया मेरा,
क्या मैं हुयी बेज़ार,

.

No comments:

Post a Comment