Friday, October 7, 2011

गुल-ओ-गुलज़ार

गुल-ओ-गुलज़ार थी आखें,
गम-ओ-गम में डूबी हुईं,
आंसुओं की लड़ी थीं,
बेवफाई में पिरोई हुईं,


.

No comments:

Post a Comment