Tuesday, October 4, 2011

साफे गम

साफे गम-ए-हालात दिल के,
तुझे क्या बताऊँ,
तू तो खुश रह ले,
कम से कम तुझे क्यूँ रुलाऊँ,


.

No comments:

Post a Comment