Tuesday, October 4, 2011

हम साया

हम साया खातून-ए-मोहब्बत से,
इज़हार-ए-इश्क करता हूँ,
इकरार कर ले इसको,
तुझे बेपनाह मोहब्बत करता हूँ,

.

No comments:

Post a Comment