Tuesday, October 4, 2011

हालात-ए-गम

हालात-ए-गम क्या कहें, बस यूँ ही चुप रहें,
आखों से टक-टकी लगी रहे, न ही कुछ कहें,
गुमसुम से अनजान रास्तों पर टहला करें,
न अब किसी के दिल से दिल मिलाया करें,

.




No comments:

Post a Comment