Tuesday, October 4, 2011

वक्त जाता

वक्त जाता था,
घडी दो घडी को याद आती थी,
क्यूँ छोड़ा उसने,
पता नहीं की क्या गुस्ताखी थी,

.



No comments:

Post a Comment