Tuesday, October 4, 2011

आग-ए-दरिया

आग-ए-दरिया,
न ढूढ़,
ये क्या,
कम है,

जिन्दगी जीने में,
निकल जाए,
यही तो,
असली दम है,


.

No comments:

Post a Comment