Tuesday, October 4, 2011

सँभालते-सँभालते

सँभालते-सँभालते,
कितना और सँभालोगे,
छोड़ दो सब,
कितना गम और पालोगे,


.

No comments:

Post a Comment