Tuesday, October 4, 2011

जहमत-ए

जहमत-ए-उनाकत से, उल्फत तो कर ली,
बेचैनी-सी बढती है, क्यूँ ये फनाकत कर ली,


.

No comments:

Post a Comment