Tuesday, October 4, 2011

साफ़-ए-ज़ुल्म

साफ़-ए-ज़ुल्म-ओ-हकीकत,
अब ज़ेबा-ज़ेबा से होती है,
जो मोहब्बत करता है,
उसे नसीहत नसीब होती है,


.

No comments:

Post a Comment