Friday, August 5, 2011

नज़रें झुकाकर

नज़रें झुकाकर, चेहरा दबाकर,
किधर चल दिए,
हम भी पीछे से आते हैं,
कदम तो धीरे से धरिये,

.

No comments:

Post a Comment