Monday, August 29, 2011

मुस्कुराती कली

मुस्कुराती कली को आज, मुरझा हुआ-सा देखा,
मदमाती महक को आज, दहकता हुआ-सा देखा,


.

No comments:

Post a Comment