Friday, August 26, 2011

नज़रें ताड़

नज़रें ताड़ लेती हैं सब,
जब जिस्म को भेद देती हैं,
कौन-सा दिल खली है,
यह सब जान लेती हैं,


.

No comments:

Post a Comment